लड़कियों के कंकाल बरामद हुए,34 लड़कियों को पीटा गया—एेसा तो नहीं चलेगा—सुप्रीम कोर्ट

पटना ———– बिहार के सुपौल में मनचलों द्वारा छेड़खानी किए जाने का विरोध करने पर 34 स्कूली छात्राओं की पिटाई के मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया और चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि अख़बारों में प्रकाशित सभी ख़बरें अच्छी नहीं हैं… लड़कियों के कंकाल बरामद हुए हैं… छेड़खानी से खुद को बचाने की कोशिश करने पर 34 लड़कियों को पीटा गया… आप बच्चों के साथ ऐसा व्यवहार कैसे कर सकते हैं…? ऐसी समस्याएं दिन-रात बढ़ती जा रही हैं…एेसा तो नहीं चलेगा।

बिहार में बच्चियों के साथ लगातार हो रहीं अत्याचार की घटनाओं को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने चिंता भी जाहिर की है और केंद्र सरकार को सुझाव दिया है कि पीड़ितों का और साथ ही नाबालिग आरोपियों का भी उचित मनोवैज्ञानिक पुनर्वास सुनिश्चित करने के लिए राष्ट्रीय संस्थान स्थापित करें। केंद्र सरकार ने सुझाव को लागू करने के लिए कोर्ट से वक्त मांगा है।