डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर जनता को बधाई

छत्तीसगढ————-मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कल 14 अप्रैल को भारतीय संविधान के महान शिल्पी डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर जनता को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने अम्बेडकर जयंती की पूर्व संध्या पर आज यहां जारी शुभकामना संदेश में कहा है कि बाबा साहब डॉ. अम्बेडकर हमारे देश के उन महान विभूतियों में से थे, जिन्होंने अपने जीवन के अंतिम क्षणों तक समाज की अंतिम पंक्ति के लोगों में स्वाभिमान जगाया और उन्हें विकास की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए कठिन संघर्ष और परिश्रम किया। मुख्यमंत्री ने कहा- बाबा साहब एक गंभीर चिन्तक और विद्वान लेखक भी थे। उन्होंने अपने अनमोल विचारों से देश और दुनिया को हमेशा सही रास्ते पर चलने की प्रेरणा दी।

डॉ. रमन सिंह ने कहा-छत्तीसगढ़ सरकार बाबा साहब के बताए रास्ते पर चलकर अनुसूचित जातियों, जनजातियों, पिछड़े तथा कमजोर वर्गों की सामाजिक- आर्थिक और शैक्षणिक विकास के लिए लगातार काम कर रही है। राज्य सरकार द्वारा उनके लिए कई योजनाएं शुरू की गई हैं, जिनके सार्थक और सकारात्मक नतीजे मिलने लगे हैं। अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण, सरगुजा और उत्तर क्षेत्र तथा बस्तर और दक्षिण क्षेत्र विकास प्राधिकरण और ग्रामीण एवं पिछड़ा क्षेत्र विकास प्राधिकरण बनाया गया है। इन चारों प्राधिकरणों के जरिए जनप्रतिनिधियों के सुझावों के अनुरूप विकास के अनेक कार्य हुए हैं और लगातार हो रहे हैं।

छत्तीसगढ़ देश का एक ऐसा राज्य है, जहां प्रदेश सरकार कृषक जीवन ज्योति योजना के तहत अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग के एक लाख से ज्यादा किसानों को सिंचाई के लिए सम्पूर्ण बिजली निःशुल्क दी जा रही है। इसके लिए बिजली बिलों पर उन्हें 533 करोड़ रूपए का अनुदान दिया जा रहा है। उन्हें सिंचाई पम्प कनेक्शनों के लिए खेतों तक लाईन विस्तार के लिए अगर अधिक राशि की जरूरत हो तो प्रत्येक कनेक्शन पर एक लाख 50 हजार रूपए का अनुदान प्रदेश सरकार दे रही है।

उन्होंने कहा-छत्तीसगढ़ के सभी किसानों को राज्य सरकार कृषक जीवन ज्योति योजना में तीन हार्स पावर के सिंचाई पम्प पर छह हजार यूनिट और तीन हार्स पावर से पांच हार्स पावर तक सिंचाई पम्पों पर 7500 यूनिट बिजली हर साल मुफ्त दी जा रही है। राज्य सरकार ने सौर सुजला योजना के तहत अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के किसानों को चार लाख 50 हजार रूपए कीमत का पांच हार्स पावर का सोलर पम्प सिर्फ सात हजार रूपए में और अन्य पिछड़े वर्ग के किसानों को सिर्फ बारह हजार रूपए में, सामान्य वर्ग के किसानों को केवल 18 हजार रूपए में दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा- बाबा साहब डॉ. अम्बेडकर के आदर्शों के अनुरूप छत्तीसगढ़ सरकार गांव, गरीब और किसानों तथा समाज के सभी कमजोर वर्गों के जीवन में तरक्की और खुशहाली लाने के लिए वचनबद्ध है।