हिरासत और जेल में अपहृत संजीव गुप्ता , पत्नी,साला अन्य दोषी –

फिरोजाबाद (विकासपालिवाल)— आखिरकार सच की जीत हुई, 22 जुलाई को अपहरण का नाटक रचने वाले संजीव गुप्ता का 29 जुलाई को एसएसपी अजय कुमार ने वार्ता के दौरान खुलासा किया था, जिसमें संजीव गुप्ता को पानीपत के स्वर्ण महल से बरामद करने की बात कही गयी थी, वहीं अपहरण को पृथम दृष्टया संदिग्ध माना गया था।
2 (3)
जिस पर चली जांच के तीसरे दिन मंगलवार को पुलिस ने यह सब संजीव गुप्ता का रचा नाटक बताया। वहीं इसमें उसकी पत्नी सारिका गुप्ता, साला सागर गुप्ता, पत्नी की बहन का बेटा विकल्प गुप्ता भी शामिल पाये गये। चारों को टूण्डला पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। जिन्हें पुलिस लाइन में मीडिया के समक्ष लाया गया।

इस दौरान एसएसपी अजय कुमार ने मीडिया को बताया कि थाना टूण्डला क्षेत्र राजा का ताल स्थित आर्चिट ग्रीन के सी-1, सी-2 निवासी सारिका गुप्ता ने टूण्डला थाने में अपने पति संजीव गुप्ता के गुम होने की तहरीर दी थी। जिस पर थाना टूण्डला पुलिस ने 22 जुलाई को गुमशुदगी दर्ज की थी। साथ ही उन्होंने गुमशुदा की तलाश के लिये टीमों का गठन किया गया था।

पुनः 23 जुलाई 2017 को सारिका गुप्ता ने थाना टूण्डला में थाना दक्षिण क्षेत्र सुहाग नगर निवासी नीता पाण्डेय, उनके पति प्रदीप पाण्डेय व यहीं के निवासी अमित गुप्ता के खिलाफ अपहरण की आशंका में मुकदमा पंजीकृत कराया था।

फिर छह दिन के बाद सातवें दिन 28 जुलाई 2017 को शाम मुखबिर की मिली सूचूना पर संजीव गुप्ता को हरियाणा के पानीपत जिले में स्वर्ण महल होटल के आसपास देखा गया। सायं करीब छह बजे स्वर्ण महल होटल के गेट के पास से संजीव गुप्ता को बरामद कर लिया गया। एसएसपी ने बताया कि अब तक पूरी जांच एवं विवेचना से फिरोजाबाद पुलिस के हाथ कुछ ऐसे तथ्य आये हैं जिसके आधार पर अपहरण की यह पूरी घटना असत्य पायी गयी है।

संजीव गुप्ता के झूठे अपहरण के संबंध में तमाम ऐसे ठोस साक्ष्य प्राप्त कर लिये गये हैं जिससे यह स्पष्ट होता है कि इस असत्य घटना में संजीव गुप्ता ने अपनी पत्नी के माध्यम से जानबूझकर पहले गुमशुदगी लिखवाई तथा फिर अपहरण की झूठी तहरीर देकर झूठा मुकदमा पंजीकृत कराया और इस पूरे प्रकरण में संजीव गुप्ता के साथ साथ उसकी पत्नी सारिका गुप्ता, उसका साला सागर गुप्ता पुत्र स्व. अरविंद गुप्ता निवासी आर्चिड ग्रीन थाना टूण्डला फिरोजाबाद एवं विकल्प गुप्ता पुत्र जवाहर लाल गुप्ता निवासी गुप्ता भवन, मैन रोड झरिया जिला धनवाद (बिहार) का पूर्ण रूप से सहयोग एवं पूरे प्रकरण में योजनाबद्ध तरीके से कार्य करते हुये थाना टूण्डला पर झूठा अभियोग पंजीकृत कराया गया है।

विवेचना में दोषी पाये गये संजीव गुप्ता, इनकी पत्नी सारिका गुप्ता, विकल्प गुप्ता के विरूद्ध धारा 419, 420, 467, 467, 468, 469, 471, 500, 507, 120बी, 34, 182, 186, 187 भादवि में एक अगस्त 2017 को प्रभारी निरीक्षक टूण्डला एवं विवेचक द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया। जिन्हंे न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत कर जेल भेजा जायेगा।