छात्रावासों में बच्चों के साथ अपनेपन का व्यवहार हो : राज्य मंत्री श्री आर्य

भोपाल (बबीता मिश्रा)———–अनुसूचित-जाति कल्याण एवं जनजाति कार्य राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने आज भोपाल एवं नर्मदापुरम संभाग में विभाग द्वारा संचालित योजनाओं की बिन्दुवार विस्तृत समीक्षा की। श्री आर्य ने अधिकारियों से कहा कि छात्रावासों में सफाई, पुताई, बिजली, पानी, रहने एवं खाने की व्यवस्था बच्चों की संख्या के अनुसार सुनिश्चित की जाए।

आकस्मिक निरीक्षण के दौरान अव्यवस्था पाए जाने पर संबंधित के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि बच्चों के साप्ताहिक मीनू को रुचिकर बनाया जाए। जिला एवं संभाग स्तर पर अधिकारी स्वयं छात्रावासों का नियमित रूप से निरीक्षण कर टीप प्रस्तुत करें।

श्री आर्य ने कहा कि छात्रावासों के बच्चों की प्रतिभा को निखारने के लिए पाठयक्रम के अतिरिक्त भी रचनात्मक गतिविधियां संचालित की जाएं। बच्चों के लिए निबंध, भाषण, वाद-विवाद, खेल-कूद आदि प्रतियोगिता आयोजित कर विजेताओं को पुरस्कृत किया जाए।

बच्चों की रचनाओं को सराहा जाए। पुस्तकालयों में रुचिकर एवं प्रेरणादायी पुस्तकें हों जिन्हें बच्चे उत्सुकता एवं रुचि के साथ पढ़ें। बच्चों को नियमित रूप से सांस्कृतिक, धार्मिक एवं प्राकृतिक पर्यटन-स्थलों की सैर भी कराई जाए। श्री आर्य ने बच्चों के सम्पूर्ण विकास के लिए समन्वित कारगर प्रयास करने के निर्देश दिये।

मंत्री श्री आर्य ने समीक्षा के दौरान कहा कि छात्रवृत्ति एवं आवास-भत्ते के प्रकरणों का शत-प्रतिशत निराकरण करें। निर्माण कार्यों का नियमित रूप से निरीक्षण करें तथा कार्यों को समयावधि में पूर्ण कराएं। स्वयंसेवी एवं समाज-सेवी संस्थाओं और संगठनों को छात्रावास एवं बच्चों से जोड़ें। बैठक में प्रमुख सचिव श्री एस.एन. मिश्रा एवं दोनों संभागों के अधिकारी उपस्थित थे।