पाकिस्तान ने अलापा फिर पुराना राग——सज्जाद हैदर

पाकिस्तान ने फिर वही अपना पुराना राग अलाप दिया। पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान के सत्ता पर विराजमान होने से सीना पर शांति के रूप में देखा जा रहा था। परन्तु, ऐसा नहीं हुआ सत्ता परिवर्तन के बाद भी नए प्रधानमंत्री ने वही कार्य करना आरम्भ कर दिया जोकि, उनके पूर्ववर्ती प्रधानमंत्रियों ने किया था।

पुलवामा आतंकी हमले का पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान का बयान आया है जो कि, साक्ष्य माँगने का राग अलाप अलाप रहें हैं। यह वही पुराना राग है जिसे अब इमरान सरकार ने शुरू कर दिया है कि आप हमें साक्ष्य दीजिए हम कार्यवाही करेंगे।

प्रश्न यह उठता है कि——

क्या, अबतक भारत ने जितने साक्ष्यों को प्रस्तुत किया तो उन साक्ष्यों पर पाकिस्तान ने कितना कार्य किया, पाकिस्तान ने भारत के द्वारा दिए गए हुए साक्ष्यों पर आतकंकियों के विरूद्ध कितना प्रहार किया।

ज्ञात हो कि पाकिस्तान के खुले राजनीतिक मंचों पर जहरीले आतकंवादी हाफिज़ सईद एवं मसूद अज़हर स्पष्ट रूप से दिखाई देते हैं। पाकिस्तान के साक्ष्य माँगने का तर्क यह है कि जब पाकिस्तान आतकिंयों के साथ नहीं है तो इन आतंकवादी आकाओं को अपने मंच पर जगह क्यों देता है। पाकिस्तान का यह दोहरा चरित्र बहुत दिनों से चल रहा है अब यह दोहरा चरित्र नहीं चलने वाला।

पाकिस्तान तत्काल भारत को इन आतंकी आकाओं को सौंपने का कार्य करे। जोकि, भारत के प्रति आतंकी गतिविधियों को अंजाम देते रहते हैं। अब शब्दों के खेल में भारत को नहीं फंसना चाहिए। भारत के नेतृत्व से हम सब भारतवासियों की आग्रह है कि कब तक हम इन झूठे आश्वाश्नों के भरोसे अपने वीर जवानों की कुर्बानी देते रहेंगे। अतः हमें अब ठोस कार्यवाही करने की आवश्यकता है। भारत का नेतृत्व भारत के हित के लिए आवश्यक कदम उठाए भारत की जनता भारत की सरकार एवं सेना के साथ है। क्योंकि, बेगुनाह हमारे जवानों का खून बहुत बह चुका।

यह खून कबत क बहेगा ?

हमें इस पर शीघ्र विचार करना चाहिए और तत्काल देश हित के लिए कदम उठाना चाहिए। भारत के हित के लिए अनेकों प्रकार के कदम एक साथ उठाने की आवश्यकता है। भारत सरकार को तत्काल राजनीतिक, कूटनीतिक, सैन्यशक्ति एवं अर्थव्यवस्था के माध्यम से प्रहार करने की आवश्यकता है। जिससे कि पाकिस्तान की कमर तोड़ी जा सके। पाकिस्तान अगर आतंकियों के खिलाफ वास्तव में कार्यवाही करने की बात करता है तो तत्काल कल ही हाफिज सईद एवं मसुद अज़हर को भारत के हवाले कर दे।

यदि पाकिस्तान ऐसा नहीं करता तो भारत सरकार से पूरे देश वासियों की आग्रह है कि कदापि पाकिस्तान पर अब भरोसा न किया जाए। अब सीधे-सीधे आतकिंयों एवं आतकिंयों के आकाओं का विनाश किया जाए।