Category Archives: साहित्य

1

ग्रामीण कवि सम्मेलन— बात तो तब है जब मर जाए औरों के लिए…

फिरोजाबाद (विकासपालिवाल)————-शब्दम् संस्था एवं सर्वोदय स्थली, जलालपुर द्वारा आयोजित ग्यारहवें ग्रामीण कवि सम्मेलन में सम सामयिक रचनाओं की हवा चली। कार्यक्रम का प्रारम्भ मां सरस्वती के पूजन एवं वंदना के…

1

—मेरे साथ POLITICS हो गई ! – सलमान खान

फिल्मी बिट्स————– सलमान खान जब किसी की कहने के मू़ड में आते हैं तो वो इधर – उधर नहीं देखते है। सीधा ठोंक देते हैं। हाल ही में उन्होंने फिर…

1

भगवद् गीता की पढ़ाई-निजी विधेयक संसद के अगले सत्र में

(आज तक) ———-स्कूलों में भगवद् गीता की पढ़ाई अनिवार्य करने वाला निजी विधेयक संसद के अगले सत्र में चर्चा के लिए आ सकता है. इसके तहत स्कूलों में गीता नहीं…

राष्ट्रीय ख्यााति के अम्बिका प्रसाद दिव्य: पुरस्कार घोषित

भोपाल-(जगदीश किंजल्क)—- साठ महत्वयपूर्ण ग्रंथों के सर्जक एवं चार सौ चित्रों के चित्रकार स्व. अम्बिका प्रसाद दिव्य की स्मृति में, विगत उन्नीस वर्षो से दिये जा रहे दिव्य पुरस्कारों की…

1

कवि सम्मेलन –मर्यादा खतरे में है कुछ कहा नहीं जाता….

फिरोजाबाद (विकासपालिवाल)—————ग्राम वासुदेवमई में सच्चोदेवी स्मृति तीन दिवसीय वासुदेवमई महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इसके अंतर्गत प्रथम दिवस अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि…

“अप्रैल फूल”-अपने ही संस्कृति का मजाक–शैलेश कुमार

सवाल है की पावन महीने की शुरुआत को मूर्ख दिवस क्यों कहा जा रहा है ? अप्रैल फूल का अर्थ है – मूर्ख दिवस ? ये नाम ईसाईयों की देन…

राष्ट्रीय ख्यााति के अम्बिका प्रसाद दिव्य: पुरस्कार घोषित

भोपाल—————– साठ महत्वयपूर्ण ग्रंथों के सर्जक एवं चार सौ चित्रों के चित्रकार स्व. अम्बिका प्रसाद दिव्य की स्मृति में, विगत उन्नीस वर्षो से दिये जा रहे दिव्य पुरस्कारों की घो‍षणा…

1

जिस नाम से गुरेज—-उस नाम से मशहूर हुए जा रहे हैं हम — डॉ.राखी अग्रवाल

बहादुरगढ़ (कृष्ण गोपाल विद्यार्थी )—- कलमवीर विचार मंच द्वारा आयोजित कवि सम्मेलन में शामिल कवियों ने श्रोताओं को घंटों मंत्रमुग्ध किया। मंच के संस्थापक कृष्ण गोपाल विद्यार्थी के सानिध्य में…

1

मैना की अहंकार रहित प्रार्थना– विजय कुमार सत्तपति

इस आलेख की अंतिम कड़ी इससे पूर्व सातवें कड़ी –साहित्यक पेज पर क्लिक करके पढ़े शिव जी के ऐसे विलक्षण स्वरूप को देखकर मैना अवाक् सी रह गयीं।वे गहन आनन्दसागर…

1

भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह-विजय सत्तपति (सिकंदराबाद)

————गतांक से आगे———— जगत् के सभी छोटे बड़े पर्वत, वन, समुद्र, नदियाँ तालाब आदि हिमाचल का निमन्त्रण पाकर इच्छानुसार रूप धारण कर उस विवाह में सम्मिलित थे। हिमाचल के नगर…

Powered By Indic IME