26,178 महिला मुखिया के खाते में जमा हुए एक-एक हजार रुपये

भोपाल :(बिन्दु सुनील)———-सहरिया परिवार में कुपोषण को दूर करने के लिए शिवपुरी जिले में पौष्टिक आहार दूध, फल, सब्जी आदि खरीदने के लिए 26 हजार 178 परिवारों की महिला मुखिया के बैंक खाते में एक-एक हजार रुपये की राशि जमा कराई गई है।

जनपद पंचायत शिवपुरी की 4 हजार 782 महिलाओं, पोहरी 5 हजार 254, कोलारस 3 हजार 520, बदरवास 3 हजार 864, करैरा 1 हजार 340, नरवर 1 हजार 376, पिछोर 2 हजार 836 और खनियांधाना में 3 हजार 206 सहरिया परिवारों की महिला मुखिया के बैंक खातों में एक-एक हजार रुपये की राशि जमा की गई है।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने जनपद पंचायत कोलारस के ग्राम सेसई में आयोजित सहरिया सम्मेलन में सहरिया जनजाति के परिवारों में कुपोषण को दूर करने के लिए पौष्टिक आहार दूध, फल, सब्जी आदि क्रय करने के लिए परिवार की महिला मुखिया के खाते में एक-एक हजार रुपये देने की घोषणा की थी। मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुपालन में महिलाओं के खाते में यह राशि जमा की गई है।

प्रशासन ने यह व्यवस्था भी की है कि जिन परिवारों को एक हजार रुपये की आर्थिक सहायता नहीं मिली है, वे अपने परिवार की महिला मुखिया के बैंक खाते का विवरण संबंधित जनपद पंचायत के कार्यालय में मुख्य कार्यपालन अधिकारी अथवा जिला स्तर पर आदिम जाति कल्याण विभाग में जमा कर सकते है।

क्ष26,178 महिला मुखिया के खाते में जमा हुए एक-एक हजार रुपये

भोपाल : गुरूवार, जनवरी 11, 2018, 13:19 IST

सहरिया परिवार में कुपोषण को दूर करने के लिए शिवपुरी जिले में पौष्टिक आहार दूध, फल, सब्जी आदि खरीदने के लिए 26 हजार 178 परिवारों की महिला मुखिया के बैंक खाते में एक-एक हजार रुपये की राशि जमा कराई गई है।

जनपद पंचायत शिवपुरी की 4 हजार 782 महिलाओं, पोहरी 5 हजार 254, कोलारस 3 हजार 520, बदरवास 3 हजार 864, करैरा 1 हजार 340, नरवर 1 हजार 376, पिछोर 2 हजार 836 और खनियांधाना में 3 हजार 206 सहरिया परिवारों की महिला मुखिया के बैंक खातों में एक-एक हजार रुपये की राशि जमा की गई है।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने जनपद पंचायत कोलारस के ग्राम सेसई में आयोजित सहरिया सम्मेलन में सहरिया जनजाति के परिवारों में कुपोषण को दूर करने के लिए पौष्टिक आहार दूध, फल, सब्जी आदि क्रय करने के लिए परिवार की महिला मुखिया के खाते में एक-एक हजार रुपये देने की घोषणा की थी। मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुपालन में महिलाओं के खाते में यह राशि जमा की गई है।

प्रशासन ने यह व्यवस्था भी की है कि जिन परिवारों को एक हजार रुपये की आर्थिक सहायता नहीं मिली है, वे अपने परिवार की महिला मुखिया के बैंक खाते का विवरण संबंधित जनपद पंचायत के कार्यालय में मुख्य कार्यपालन अधिकारी अथवा जिला स्तर पर आदिम जाति कल्याण विभाग में जमा कर सकते है।