26 विद्यार्थियों को 38 गोल्ड मेडल और 182 विद्यार्थियों को स्नातकोत्तर उपाधि

रायपुर (केशरवानी)———–राज्यपाल श्री बलरामजी दास टंडन ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्वास्थ्य विज्ञान और आयुष विश्वविद्यालय रायपुर के द्वितीय दीक्षांत समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि डॉक्टर चिकित्सीय पेशे को केवल धनार्जन का माध्यम न समझें, बल्कि इसे सेवा का भाव समझकर कार्य करें।
6
उन्होंने दीक्षांत समारोह में डॉक्टर की उपाधि लेने वाले सभी चिकित्सकों से कहा कि वे अपने कार्य से प्रदेश ही नहीं, बल्कि देश का नाम रौशन करें।

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में छत्तीसगढ़ को पिछड़ा क्षेत्र समझा जाता था, किन्तु राज्य बनने के बाद यहां हर क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित हुए हैं और आज अग्रणी राज्यों के साथ कंधे से कंधा मिला कर चल रहा है। यहां जिस तरह से स्वास्थ्य सुविधा के क्षेत्र में कार्य हुआ है वह अन्य राज्यों केे लिए प्रेरणास्पद है। यहां चिकित्सा शिक्षा संस्थानों की संख्या में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है।

शासन द्वारा सभी नागरिकों को खाद्य सुरक्षा, स्वास्थ्य सुरक्षा उपलब्ध कराई जा रही है। इस अवसर पर श्री टंडन ने स्वर्ण पदक और डिग्री प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को बधाई एवं शुभकामनाएं दी।

कार्यक्रम के प्रारंभ में राज्यपाल श्री बलरामजी दास टंडन, केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री श्री जे.पी. नड्डा और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने नया रायपुर उपरवारा में निर्मित पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्वास्थ्य विज्ञान और आयुष विश्वविद्यालय के नवीन भवन का बटन दबाकर लोकार्पण किया।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री श्री जे.पी. नड्डा ने अपने दीक्षांत भाषण में कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की पहल पर स्वास्थ्य में ‘समग्र दृष्टिकोण’ अपनाया जा रहा है। बीमारी के रोकथाम के समुचित उपाय के लिए प्रिवेंटीव और प्रमोटिव हेल्थ केयर पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि श्री मोदी के प्रयासों से आज देश की पुरातन विद्या योग को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिली है। उन्होंने बताया कि परम्परागत और आधुनिक चिकित्सा पद्धतियों को एकीकृत करने के लिए एम्स में सेन्टर फॉर इंटीग्रेटेड मेडीसिन शुरू करने की योजना है।

उन्होंने कहा कि एक चिकित्सा छात्र पर सरकार बहुत बड़ी राशि खर्च करती है। यह राशि नागरिकोें के टैक्स से आती है, इसलिए चिकित्सा छात्र का दायित्व बनता है कि वे समय आने पर समाज की सेवा करे।

उन्होंने कहा कि आम नागरिक चिकित्सक को भगवान मानता है, उस विश्वास को चिकित्सक बनाए रखें। चिकित्सक सिर्फ बीमारी ही नहीं, बीमार व्यक्ति का भी इलाज करें, उन्हें परीक्षण और उचित परामर्श भी दें।

श्री नड्डा ने कहा कि सरकार पूरे देश में स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार के लिए सजग है, और गरीब आदमी को हर प्रकार की राहत देने के प्रयास किये जा रहे हैं। इसके तहत देश के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को कल्याण केन्द्र (वेलनेस सेन्टर) के रूप में विकसित किया जा रहा है। इन केन्द्रों में 30 साल से अधिक उम्र के सभी व्यक्तियों का डायबिटीज, कैंसर, हाईपर टेंशन आदि बीमारियों के स्क्रीनिंग की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में स्वास्थ्य सुविधा के लिए जो भी मांग आयेगी उन सभी को पूरा करने का प्रयास किया जाएगा।

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने डॉक्टर की उपाधि लेने वाले डॉक्टरों से कहा कि वे आज समाज सेवा का भी संकल्प लें और उत्कृष्ट चिकित्सक के साथ-साथ उत्कृष्ट इंसान भी बनकर दिखाएं, यही आपकी असली परीक्षा होगी।

स्वास्थ्य राज्य सरकार की प्रारंभ से ही प्राथमिकता में रहा है। स्वास्थ्य का बजट, राज्य निर्माण के समय लगभग साढ़े तीन सौ करोड़ था, जो अब बढ़कर लगभग साढ़े चार हजार करोड़ हो गया है।

राज्य में मेडिकल कॉलेज की संख्या 01 से बढ़कर 09 हो गई है। मेडिकल की सीटों की संख्या 100 से बढ़कर 1100 हो गई है। इसी प्रकार अन्य चिकित्सा संस्थानों की संख्या में भी वृद्धि हुई है।

डॉ. सिंह ने केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री श्री जे. पी. नड्डा का राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के लिए हरसंभव मदद करने हेतु धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि दूरस्थ क्षेत्रों की जनता को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए राज्य शासन द्वारा पूरे देश से चिकित्सकों का चयन कर उन्हें विशेष पैकेज देकर दूरस्थ क्षेत्रों में पदस्थ किया जा रहा है। इसके परिणामस्वरूप बीजापुर और सुकमा जैसे जिलों में उत्कृष्ट चिकित्सा सुविधाएं मिल रही है।

दीक्षांत समारोह में 26 विद्यार्थियों को 38 गोल्ड मेडल और 182 विद्यार्थियों को स्नातकोत्तर उपाधि प्रदान की गई। केन्द्रीय मंत्री श्री जे. पी. नड्डा ने इस अवसर पर 15 एंबुलेंस का लोकार्पण भी किया, इनमें से 08 एंबुलेंस प्रदेश के विभिन्न मेडिकल कॉलेजों के लिए और 09 एंबुलेंस डी.के.एस. पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट एंड रिसर्च सेंटर रायपुर के लिए हैं।

समारोह के प्रारंभ में प्रदेश के प्रतिष्ठित चार चिकित्सकों पद्मश्री से सम्मानित डॉ. ए. के. दाबके, डॉ. एम. पी. पाण्डेय, डॉ. एस. आर. गुप्ता एवं डॉ. आई. एम. सेठी का सम्मान किया गया।

दीक्षांत समारोह में पं. दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्वास्थ्य विज्ञान एवं आयुष विश्वविद्यालय छत्तीसगढ़ के कुलपति डॉ. जी. बी. गुप्ता ने स्वागत भाषण दिया।

दीक्षांत समारोह में उच्च शिक्षा मंत्री श्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय, लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत, लोकसभा सदस्य रायपुर श्री रमेश बैस, विधायक श्री श्रीचंद सुंदरानी, राज्य के अन्य विश्वविद्यालयों के कुलपति, विश्वविद्यालय के सभी संकायों के अधिष्ठाता, प्रोफेसर और बड़ी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित थे।