स्व-सहायता समूह के लिए विकासखण्ड स्तर पर आजीविका भवन

भोपाल :(केके जोशी)——पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की महिलाओं के स्व-सहायता समूह के प्रशिक्षण एवं उन्मुखीकरण कार्यक्रम में कहा कि प्रदेश में स्व-सहायता समूह के लिए विकासखण्ड स्तर पर 50 लाख की लागत से आजीविका भवन बनाये जायेगें।

उन्होंने कहा कि इन आजीविका भवनों को सुसज्ज्ति तरीके से बनाया जायेगा, जिसमें ट्रेनिंग सेन्टर के लिए हॉल, कम्प्यूटर, कुर्सियां, दरी, टी.वी. इत्यादि की पूरी व्यवस्था रहेगी। उन्होंने कहा कि इन भवनों में बाहर से आई बहनों के रूकने के लिए कमरे और मार्केटिंग के लिए दुकानें बनाई जायेंगी, ताकि स्व-सहायता समूह अपने उत्पाद का विक्रय भी कर सके।

श्री भार्गव ने कहा कि आजीविका भवन निर्माण की राशि स्‍व-सहायता समूह को उनके बैंक खाते में सीधे उपलब्ध करवाई जायेगी। स्व-सहायता समूह द्वारा ही इसका निर्माण किया जायेगा। श्री भार्गव ने कहा कि प्रत्येक विकासखण्ड में बाजार के पास या जहाँ से बस एवं रेल्वे स्टेशन नजदीक हो ऐसी जगह आजीविका भवन के लिए चिन्हित की जायेगी।

श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि महिलायें स्व-समूह से जुड़कर स्वाबलंबी बनें और अपने-अपने जिले से संबंधित उद्योग जैसे अगरबत्ती निर्माण, शरबती गेंहूँ का आटा, सेनेटरी नेपकिन, हेण्डलूम चादरें, साबुन इत्यादि सामग्री का उत्पादन बड़े स्तर पर करें। सरकार इसमें पूरी मदद करने का प्रयास करेगी। उन्होंने कहा कि स्व-सहायता समूह अपने प्रोडक्ट बढ़ायें, जिनके प्रचार-प्रसार भी सरकार करेगी।

उन्होंने कहा कि इस प्रकार के आयोजन से महिलाओं को नये-नये उत्पादन करने की सलाह आपस में एक दूसरे को मिलती है। नारी शक्ति से ही प्रदेश आगे बढ़ेगा इसीलिए वे खुले आकाश में पक्षी की तरह उड़ान भरें। हम सभी आपके पंख बनेगें और बहुमूल्य सुझावों को पूरा करवाने का प्रयास करेगें।

श्री भार्गव ने विभिन्न जिला एवं विकासखण्डों के स्व-सहायता समूह के वैश्विक उत्पादन की प्रदर्शनी में स्टॉल का भी अवलोकन किया और उत्पादों के बारें में जानकारी ली। महिलाओं ने आर्थिक प्रगति एवं कार्य में आने वाली कठिनाईयों के संबंध में उन्हें बताया। श्री भार्गव ने कठिनाईयों को दूर करने का आश्वासन दिया।

कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास के अपर मुख्य सचिव श्री राधेश्याम जुलानिया, मिशन के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एल.एम बेलवाल, नाबार्ड एवं बैंक के अधिकारी तथा ग्रामीण स्व-सहायता समूह की अध्यक्ष एवं सदस्‍य उपस्थित थी।