सुपर हिट धारावाहिक चाचा चौधरी — फिल्म’ सिस्टर्स’ में राजेश सिंह ,

मुंबई (संजय शर्मा राज)———– टीवी के कई अभिनेता फिल्मो में बतौर हीरो आये और अपना एक अलग मुकाम फिल्म इंडस्ट्री में बनाया। धारावाहिक ‘चाचा चौधरी’ में साबू,ब्रम्हा विष्णु महेश में रावण, जय हनुमान में भीम की भूमिका निभाकर टीवी इंडस्ट्री में अपनी छाप छोड़ने वाले छह फुट चार इंच लम्बे बहुमुखी प्रतिभाशाली अभिनेता राजेश सिंह भी अब लोगों को बतौर हीरो फिल्मों में नज़र आएंगे। 1

शिवानंद एंटरटेनमेंट और ड्रीम वर्ल्ड फिल्म प्रोडक्शन के बैनर तले हॉलीवुड के तर्ज़ पर बन रही बॉलीवुड की सस्पेंस थ्रिलर फिल्म ‘सिस्टर्स’ में बतौर हीरो राजेश सिंह नज़र आएंगे। इसके निर्देशक निशांत – विकास है। इसमें राजेश सिंह के साथ डोलप सिंह, नंदनी सिंह,खुश्बू खान, मिसमी विश्वास,सलोनी पांडे जैसी पांच बोल्ड और ब्यूटीफुल लड़कियाँ है। इसकी शूटिंग नैनीताल में हो रही है। यह फिल्म हिंदी के अलावा कई अन्य विदेशी भाषा में भी रिलीज़ होगी।

एक्टर राजेश सिंह इस फिल्म के बारे में बताते है,” मैं इसमें एक पुलिस आई जी राजेश आहूजा बना हूँ ,जोकि अपने काम के प्रति काफी वफादार और निष्ठावान व्यक्ति है। और सुप्रिया कर्णिक जी मेरी पत्नी है, जोकि जज बनी। और इसमें मेरा भाई आर्य बब्बर बने है। जोकि एक रेप केस में फंस जाता है। और उसके बाद क्या क्या और कैसे होता है? यही दिखाया गया है। इसमें काफी सस्पेंस है, इसलिए ज्यादा बता नहीं सकता है। इस फिल्म सभी फ़िल्मी मसाला है। और एक अलग तरह की फिल्म है, जोकि विदेशी फिल्मों की तरह और बड़े बजट की फिल्म है। ”

वैसे राजेश सिंह ने वज़ूद, हलचल,जमानत,आगे से राइट जैसी कई फिल्मों में काम किया है लेकिन बतौर हीरो फिल्म ‘सिस्टर्स’ उनकी पहली फिल्म है। इन्होने कई नाटक,फिल्म, धारावाहिक, विज्ञापन फिल्मों में काम किया है। महेश भट्ट के धारावाहिक ‘नामकरण’में भी काफी फेमस हुए थे। अभी कलर चेंनेल पर राजेश सिंह अभिनीत धारावाहिक ‘इश्क में मर जावां’ चल रहा है।

सस्पेंस थ्रिलर फिल्म ‘सिस्टर्स’ के निर्देशक निशांत – विकास है। दोनों निर्देशक की जोड़ी ने बताया,”इसे पहले हमलोग देश विदेश के सभी फिल्म फेस्टिवल में दिखाएंगे। फिर इसे रिलीज़ करेंगे। इसमें कुल छह गाने है, जिसमें दो इंग्लिश गाने है। लोग हमेशा औरतों और मर्दो में भेद भाव करते है। यदि आज लड़की मॉर्डन बन जाय,छोटे कपडे पहने या सिगरेट पिए तो लोग उसे आवारा समझते है और अलग नज़र से सोचते है। आज हमारे देश की बेटियां किसी से कम नहीं है। यही दिखाया है। ”