सहकारी बैंक फर्जी ऋण मामले में होगी एफ.आई.आर. — ज्ञानेन्द्र पाण्डेय

सीधी (विजय सिंह)—— जय किसान ऋण माफी योजना लागू करने के पारदर्शी तरीके से बैंक के साथ धोखाधड़ी करने वाले कर्मचारी या हितग्राही बच नहीं पायेंगे। जिले में फर्जी ऋण के मामले सामने आने पर तत्काल एफ.आई.आर.दर्ज कराई जायेगी।

जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक सीधी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ज्ञानेन्द्र पाण्डेय ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान बताया कि 22 फरवरी से किसानों के खाते में बकाया ऋण की राशि जमा होना प्रारम्भ हो जायेगी। शासन ने ग्राम सभा के पटल पर प्रदर्शित सूची से सभी किसानों को कृषि ऋण के बकाया होने की स्थिति तथा फर्जी ऋण प्रकरणों के मामले सामने आ रहे है। इन विसंगतियों के परीक्षण के उपरांत आरोपी के विरुद्व कार्यवाही सुनिश्चित है।

श्री पाण्डेय ने बताया कि बैंक की सीधी व सिंगरौली जिले में संचालित शाखाओं में कुल 30995 किसानों का लगभग 198 करोड़ रुपये बकाया है। इसमें सीधी जिले के 17787 किसानों में से तकरीबन 15 हजार तथा सिंगरौली जिले के 13208 में से 11300 किसान शासन द्वारा निर्घारित हरे, सफेद व गुलाबी आवेदन पत्रों में आवेदन कर चुके हैं। आवेदन की अंतिम तिथि 5 फरवरी तक निर्धारित है। किसानों को निर्धारित तिथि तक उनके
लिये निर्धारित प्रारूप में आवेदन जमा कर देना चाहिए।