छात्रों के चौपट होते भविष्य और सरकार कि बकैती का साक्षीकरण

अहम प्रश्न है की सरकारी विद्यालयों के शिक्षकों का वेतन 50000 रूपये से ऊपर है। 50000 रूपये वेतन पाने वाले शिक्षकों को शिक्षण कार्य में न लगाकर उनसे गैर शिक्षणकार्य (जैसे –चुनाव आदि) ले रही है.

छात्रों के चौपट होते भविष्य और सरकार कि बकैती का साक्षीकरण।

प्रस्तुत है :—- भराम हाई स्कूल —झंझारपुर , मधुबनी का झलक —

समस्त देश की सरकारी शिक्षण व्यवस्था का उदाहरण है।