राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना 10 वार्डों में शिविर

जयपुर, 14 नवम्बर। जिला प्रशासन द्वारा जयपुर नगर निगम क्षेत्र में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के तहत वृद्धावस्था, विधवा तथा विशेष योग्यजन पेंशनधारी, श्रम विभाग के पंजीकृत निर्माण श्रमिक, अनाथालय, वृद्धाश्रम एवं कुष्ठआश्रम में पंजीकृत व्यक्तियों, गैर सफाईकर्मियों तथा कुलियों जैसी श्रेणियों के व्यक्तियों के नाम जोड़ने के लिए बुधवार से नगर निगम के सभी जोन में वार्डवार विशेष शिविर प्रारम्भ होंगे।

जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्टे्रट श्री सिद्धार्थ महाजन ने बताया कि 15 नवम्बर से 28 नवम्बर तक चलने वाले इस कार्यक्रम के तहत बुधवार को पहले दिन नगर निगम के 8 जोन में 10 शिविर आयोजित होंगे। इस सम्बंध में आवश्यक व्यवस्थाओं एवं सभी पात्र लोगों को लाभांवित करने के लिए प्रभारी अधिकारी सहित अन्य अधिकारियों एवं कार्मिकों को पाबंद किया है।

बुधवार (15 नवम्बर) के शिविरों का कार्यक्रम

जिला कलक्टर ने बताया कि बुधवार, 15 नवम्बर को विद्याधर नगर जोन में वार्ड 3 के लिए रोड़ नं. 14 पर स्थित राजकीय उच्च माध्यमिक विधालय सीकर रोड़ तथा वार्ड 7 के लिए निवारू रोड़ पर उद्योग नगर स्थित जागृति पब्लिक स्कूल में शिविर आयोजित होंगे। सांगानेर जोन में वार्ड 37 के लिए प्रताप नगर के सैक्टर 11 में सामुदायिक केन्द्र, हवामहल जोन (पूर्व) के लिए सामुदायिक केन्द्र जामडोली तथा आमेर जोन मे वार्ड 89 के लिए वाल्मिकी भवन सामुदायिक केन्द्र, बह्मपुरी थाने के पीछे खाद्य सुरक्षा योजना शिविरों का आयोजन होगा।

सिविल लाईन जोन में वार्ड 21 के लिए चित्रकूट स्टेडियम के पास पार्षद कार्यालय तथा वार्ड 30 के लिए स्वेजफार्म सामुदायिक केन्द्र, मानसरोवर जोन में वार्ड 32 के लिए वरूणपथ स्थित सामुदायिक केन्द्र, मोती डूंगरी जोन के वार्ड 59 के लिए बापू नगर में राजेन्द्र मार्ग स्थित हाजरीगाह तथा हवामहल (पश्चिम) के वार्ड 77 के लिए चांदपोल में बगरूवालों का रास्ता स्थित चतुर्भुज जी के मंदिर में शिविर आयोजित होंगे।

शिविरों में माकूल व्यवस्थाओं के निर्देश

श्री महाजन ने बताया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना में इन वर्गों के लोगों को जोड़ने के लिए लगाए जा रहे इन शिविरों के लिए उपखण्ड अधिकारी, एसीएम एवं तहसीलदार स्तर के अधिकारियों को प्रभारी बनाया गया है। शिविरों में मौके पर आवेदन पत्रों को भरवाने में सहयोग के लिए 5-5 कार्मिकों की प्रत्येक शिविर में विशेष तौर पर ड्यूटी लगाई गई है। इसके साथ ही शिविरों में आने वाले लोगों को सुविधा एवं सहयोग की दृष्टि से अन्य व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के लिए अलग-अलग विभागों के अधिकारियों को निर्देश जारी किए गए है।