मेक इन इंडिया –दिव्यांगजन सहायक उपकरण वितरण समारोह

झज्जर, 7 दिसंबर। सीएसआर के तहत झज्जर में आगामी 9 दिसबंर को आयोजित होने वाले देश के सबसे बड़े दिव्यांगजन सहायक उपकरण वितरण समारोह में पूरी तरह स्वदेशी तकनीक के इस्तेमाल से तैयार स्मार्ट गैजेट्स का नि:शुल्क वितरण होगा।
07 DC Jhajjar
मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), नई दिल्ली द्वारा विकसित स्मार्ट केन तथा भारत सरकार के सार्वजनिक उपक्रम भारतीय कृत्रिम अंग निर्माण निगम (एलिम्को), कानपुर में विकसित स्मार्ट फोन दृष्टिबाधित दिव्यांगजनों के लिए न केवल इस्तेमाल करने में आसान होंगे बल्कि उनके रोजमर्रा के काम-काज को आसान बना देंगे।
टॉक-बैक व एक्सेस सॉफ्टवेयर
दृष्टिबाधित दिव्यांगजनों के लिए खास तौर पर तैयार किए स्मार्ट फोन में न केवल 3500 एमएएच बैटरी होगी बल्कि दो जीबी रैम के साथ-साथ 16 जीबी मैमोरी भी रखी गई है। इस फोन में दिव्यांगजनों के लिए मेक इन इंडिया तकनीक पर बना टॉक-बैक व एक्सेस सॉफ्टवेयर होंगे जिससे बातचीत के साथ-साथ एक टच पर वाट्सएप पर आने वाले संदेश व एसएमएस सुने जा सकेंगे।

एक्सेस सॉफ्टवेयर के जरिए यह फोन दिव्यांग दृष्टि अनुकूल होगा। एलिम्को प्रतिनिधि एसके रथ ने जानकारी देते हुए बताया कि यह स्मार्ट फोन केवल दृष्टिबाधित दिव्यांगजनों को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है। झज्जर जिला में आयोजित होने वाले शिविर में 108 दिव्यांगजनों को यह फोन नि:शुल्क दिए जाएंगे।
वाइब्रेशन के जरिए केन से यूजर अलर्टआईआईटी, नई दिल्ली द्वारा विकसित स्मार्ट केन के फीचर भी दृष्टिबाधित दिव्यांजनों के लिए पूरी तरह अनुकूल है। केन में लगे सेंसर मार्ग में आने वाली किसी बाधा को दूर से ही महसूस करते हुए तुरंत वाइब्रेशन के जरिए यूजर को अलर्ट करेंगे बाधा के करीब आने पर वाइब्रेशन आटोमेटिकली तेज हो जाएगी।

दृष्टिबाधित दिव्यांगजनों की रोजमर्रा की जिंदगी में केन के इस्तेमाल के दौरान होने वाली परेशानियों पर पूरी स्टडी व रिसर्च के बाद यह केन विकसित गई है। झज्जर के शिविर में 153 दिव्यांगजनों को यह स्मार्ट केन मिलेगी।
1142 दिव्यांगजनों को लाभ—-उपायुक्त सोनल गोयल की पहल पर आयोजित होने वाले इस शिविर के जरिए 1142 दिव्यांगजनों को लाभ मिलेगा। दिव्यांगजन कल्याण को समर्पित देश के सबसे बड़े इस समारोह में 215 दिव्यांगजनों को मिलने वाली बैटरीचालित मोटराइज्ड ट्राई साईकिल व 7 दिव्यांगजनों को मिलने वाली व्हील चेयर भी स्वदेशी तकनीक से तैयार आधुनिक उपकरण है। एक बार में कम बिजली खपत में चार्ज होने वाली यह ट्राई साईकिल पचास किमी तक चलेगी।

यह देश का सबसे बड़ा शिविर अरावली पावर कंपनी प्रा. लिमिटेड (एनटीपीसी, एचपीजीसीएल, आईपीजीसीएल का संयुक्त उद्यम) ने दिव्यांगजनों के कल्याण को समर्पित इस शिविर के लिए करीब दो करोड़ रुपए सीएसआर के तहत दिए है। सीएसआर के तहत एक शिविर के लिए यह वित्तीय सहायता देश में सर्वाधिक है।

जिला प्रशासन, झज्जर व एलिम्को के सांझा सौजन्य से 9 दिसंबर को जहांआरा बाग स्टेडियम में आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर मुख्य अतिथि होंगे, हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि व भाजपा विधायक नरेश कौशिक की गरिमामयी उपस्थिति रहेगी।