भारत और कोरिया के पास एक समानता आधारित न्‍यायसंगत अंतर्राष्‍ट्रीय राजनीतिक-आर्थिक व्‍यवस्‍था के निर्माण की दिशा में एक साझा दृष्टिकोण : श्री पी चिदम्‍बरम

वित्त मंत्रालय  (नई दिल्ली ) केंद्रीय वित्‍त मंत्री श्री पी चिदम्‍बरम ने कहा कि भारत और कोरिया के पास एक समानता आधारित न्‍यायसंगत अंतर्राष्‍ट्रीय राजनीतिक-आर्थिक व्‍यवस्‍था के निर्माण की दिशा में एक साझा दृष्टिकोण है। श्री चिदम्‍बरम ने कहा कि भारत और कोरिया के बीच के संबंध मजबूत ऐतिहासिक संबंधों, साझा सांस्‍कृतिक विरासत, लोकतंत्र के लिए प्रतिबद्धता और दीर्घकालिक व्‍यापक सामरिक साझेदारी स्‍थापित करने और उसे मजबूत बनाने की दिशा में पारस्‍परिक इच्छा शक्ति पर आधारित हैं। वित्‍त मंत्री आज यहां चौथे भारत-कोरिया वित्‍त मंत्री स्‍तरीय बैठक को संबोधित कर रहे थे।

मंत्री महोदय ने जोर देकर कहा कि भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था के मौलिक घटक मजबूत हैं। उन्‍होंने कहा कि 2005 और 2007 के बीच भारत ने विकास की संभावनाओं तक अपनी पहुंच न केवल कायम की, बल्कि उससे भी आगे जाकर नौ प्रतिशत से भी अधिक विकास दर कायम किया। उन्‍होंने कहा कि 1991 से लेकर 2011 के बीच 20 वर्ष की अवधि में भारत की औसत विकास दर सात प्रतिशत के आस-पास थी।The Union Finance Minister, Shri P. Chidambaram with the Deputy Prime Minister & Minister of Strategy and Finance, Republic of Korea, Mr. Hyun Oh Seok at the 4th Indo-Korean Finance Ministerial Meeting, in New Delhi on January 08, 2014.

कोरिया गणराज्‍य के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्‍व वहां के उप प्रधानमंत्री और सामरिक तथा वित मंत्री श्री ओ-सिओक हियून कर रहे थे और भारतीय गणराज्‍य के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्‍व वित्‍त्‍मंत्री श्री पी चिदम्‍बरम कर रहे थे। दोनों पक्षों ने वृहद आर्थिक परिदृश्‍य और नीति निर्देशों तथा बहुपक्षीय कार्यक्रम के अधीन सहयोग कायम करने के लिए जरूरी उपायों के बारे में विचारों का आदान-प्रदान किया और मजबूती की ओर अग्रसर और विकास उन्‍मुख द्विप‍क्षीय आर्थिक सहयोग की सराहना की। दोनों पक्षों ने व्‍यापार और निवेश, सार्वजनिक सेवा और राजकोषीय घटनाक्रम, करारोपण और वित्‍त तथा अवसंरचना विकास और सहयोग के क्षेत्रों में परस्‍पर हितों से जुड़े मुद्दों पर व्‍यापक विचार-विमर्श किया।