पुलिस शहीद दिवस समारोह– जांबाज वीर सिपाहियों से प्रेरणा लें – पुलिस महानिदेशक

जयपुर—-महानिदेशक पुलिस श्री अजीत सिंह ने 58 वें पुलिस शहीद दिवस समारोह के मौके पर पुलिस अधिकारियों का आह्वान किया कि वे त्याग एवं बलिदान की मिसाल कायम करने वाले उन जांबाज सिपाहियों से प्रेरणा लें, जिन्होंने अपने कर्तव्य का निर्वहन करते हुए देश सेवा के लिये अपनी शहादत दी है।
1
श्री सिंह शनिवार को राजस्थान पुलिस अकादमी में आयोजित राज्य स्तरीय पुलिस शहीद दिवस समारोह में पुलिस अधिकारियों एवं पुलिस कर्मियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि 21 अक्टूबर 1959 को सी.आर.पी.एफ. के पुलिस अधिकारी श्री करम सिंह के नेतृृत्व में 20 जवानों की टोली पर हॉट स्पि्रंग्स, लाख में 16 हजार फीट की ऊँचाई पर विषम परिस्थितियों में गश्त के दौरान चीन की सेना ने घात लगाकर हमला किया था। इस आक्रमण में पुलिस के 10 जवान वीर गति को प्राप्त हुए थे।

इन वीरों के बलिदान को स्मरण करने व उनसे प्रेरणा ग्रहण करने के उद््देश्य से प्रतिवर्ष 21 अक्टूबर को पुलिस के शहीद शूरवीरों की स्मृृति में पूरे देश में पुलिस शहीद दिवस मनाया जाता है। पुलिस महानिदेशक ने समारोह में मौजूद समस्त अधिकारियों, कर्मचारियों व उनके परिजनों का आह्वान किया कि देश के शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि तभी होगी, जब हम उनके आदर्शों को आत्मसात करते हुए देश सेवा की प्रेरणा लें।

उन्होंने कहा कि इन वीरों का बलिदान भारतीय पुलिस के कार्यों की उच्चतम परम्पराओं का प्रतीक है तथा कर्तव्यनिष्ठा का अनुपम आदर्श प्रस्तुत करता है। श्री सिंह ने देश के सभी प्रान्तों, केन्द्र शासित प्रदेशों व अद्र्ध सैन्य सैनिक बलों के 1 सितम्बर, 2016 से 31 अगस्त, 2017 तक के विभिन्न संवर्ग के शहीद अधिकारियों एवं कर्मचारियों के पदनाम व उनके नाम का वाचन कर उन्हें सम्मान दिया।

उन्होंने बताया कि एक सितम्बर 2016 से 31 अगस्त 2017 तक कुल 379 वीरों ने देश के लिये अपनी शहादत दी है। उन्होंने बताया कि राजस्थान के वर्ष 2011 से 2017 तक कुल 12 पुलिस के अधिकारियों व जवानों ने वीरगति पाई है। वर्ष 2017 में अलवर जिले के कांस्टेबल श्री लालाराम ने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए अपनी शहादत दी। पुलिस महानिदेशक ने शहीद दिवस परेड का निरीक्षण भी किया।

पुलिस सगठनों की परम्पराओं के अनुसार सबसे पहले पुलिस महानिदेशक श्री अजीत सिंह, रिटायर्ड महानिदेशक पुलिस श्री मनोज भट्ट, महानिदेशक पुलिस (प्रशिक्षण) श्री नंदकिशोर, संयुक्त निदेशक, (आई.बी.) श्री के.सी. मीणा, पुलिस अधीक्षक, (सी.बी.आई.) श्री मोहम्मद सलीम खान, पुलिस आयुक्त, जयपुर श्री संजय अग्रवाल एवं राजस्थान पुलिस अकादमी के निदेशक श्री राजीव दासोत ने शहीद स्थल पर पुष्पचक्र अर्पित कर शहीदों को भावभीनी श्रद्धांजलि दी।

परेड में भाग ले रहे पुलिस अधिकारियों व कर्मियों ने शोक शस्त्र कर दो मिनिट का मौन धारण कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। व परेड में शामिल पुलिस बैण्ड ने ’’लास्ट पोस्ट’’ व ’’राउज/रिवेली’’ की धुन बजाई। इस अवसर पर महानिदेशक पुलिस (एस.सी.आर.बी.) श्री कपिल गर्ग, महानिदेशक पुलिस (प्रशिक्षण) श्री नन्द किशोर, महानिदेशक पुलिस (भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो) डॉ. आलोक त्रिपाठी, अतिरिक्त महानिदेशक एवं कार्यवाहक डीजी जेल श्री सुनील मेहरोत्रा, अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस (आम्र्ड बटालियन) श्री ओ.पी. गल्होत्रा, अतिरिक्त महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) श्री एन.आर.के. रेड्डी, अतिरिक्त महानिदेशक (कार्मिक) डॉ. भूपेन्द्र सिंह, अतिरिक्त महानिदेशक (सिविल राईटस) श्री एम.एल. लाठर, अतिरिक्त महानिदेशक (अपराध) श्री पंकज कुमार सिंह, अतिरिक्त महानिदेशक (एसडीआरएफ) श्री बी.एल.सोनी, अतिरिक्त महानिदेशक (इन्टेलीजेन्स) श्री यू.आर. साहू एवं पुलिस मुख्यालय, राजस्थान पुलिस अकादमी व पुलिस आयुक्तालय जयपुर के अनेक अधिकारी, कर्मचारी एवं शहीदों के परिजन आदि उपस्थित थे।

शहीद दिवस समारोह में श्रद्वाजंलि के पश्चात पुलिस महानिदेशक श्री अजीत सिंह एवं अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने त्रिमूर्ति सर्किल स्थित शहीद स्मारक पर वीर शहीदों को पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।