निर्वाचन प्रक्रिया में युवाओं की भूमिका पार्टनर की तरह – मुख्य निर्वाचन अधिकारी

जयपुर——- मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री अश्विनी भगत ने कहा कि निर्वाचन प्रक्रिया में युवाओं की भूमिका पार्टनर की तरह है, उनके परस्पर सहयोग के बिना मजबूत लोकतंत्र की कल्पना बेमानी है।
2
उन्होंने कहा कि युवा यदि मतदान और निर्वाचन के प्रति और अधिक सजग हो जाएं तो देश को नई दिशा मिल सकती है।

श्री भगत बुधवार को जयपुर में राजा रामदेव पोद्दार सीनियर सैकंडरी स्कूल में आयोजित इंट्रेक्टिव स्कूल एंगेजमेंट (परस्पर संवादात्मक स्कूली वचनबद्धता) कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आज का युवा उत्साह से लबरेज है और अपनी जिम्मेदारी बखूबी समझता है और निभाता भी है।

उन्होंने कहा कि मतदान और निर्वाचन के प्रति युवाओं को और अधिक सजगता दिखानी होगी। उन्होंने इस अवसर पर कार्यक्रम में उपस्थित छात्रों को शपथ दिलाई कि 18 वर्ष पूरी करते ही वे न केवल अपना नाम मतदाता सूची में दर्ज करवाएंगे बल्कि चुनाव के समय अपने मताधिकार का इस्तेमाल भी करेंगे। छात्रों ने भी उत्साह के साथ उन्हें पूर्ण रूप से आश्वस्त किया।

उन्होंने कहा कि इंट्रेक्टिव स्कूल एंगेजमेंट का मुख्य उद्देश्य 15-17 आयु वर्ग के विद्यालय के छात्र-छात्राओं को निर्वाचन तंत्र से जोड़ना है। उन्होंने कहा कि आज 2500 से ज्यादा सैकण्डरी और हायर सैकण्डरी स्कूलों में ऎसे कार्यक्रम हुए हैं, जिनके परिणाम आने वाले दिनों में नवीन मतदाताओं के रूप में प्रदेश को मिलेंगे। गौरतलब है कि युवा मतदाताओं को जागरूक करने के लिए स्कूलों में चलाई इस मुहिम की शुरुआत 2017 में की गई थी, जिसके बेहद सकारात्मक परिणाम मिले थे।

उप मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री विनोद पारीक ने इस अवसर पर छात्र-छात्राओं से मतदान, ईवीएम, राष्ट्रीय मतदाता दिवस, वीवीपैट, एपिक कार्ड, बीएलओ सहित कई विषयों पर दिलचस्प सवाल-जवाब भी किए। छात्रों ने भी उत्साह के साथ सवालों के जवाब दिए। इस दौरान ‘प्रजातंत्र में मताधिकार का महत्व‘ विषय पर छात्र-छात्राओं की भाषण प्रतियोगिता और मतदान से संबंधित पोस्टर प्रतियोगिता भी रखी गई।

इस अवसर पर जयपुर के उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री सुनील भाटी ने भी मतदान प्रक्रिया में युवाओं की भागीदारी पर अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र को मजबूत करने का सबसे सशक्त आधार युवाओं का मतदान प्रक्रिया से जुड़ना है।

उन्होंने बताया कि निर्वाचन विभाग द्वारा चलाए गए युवा मतदाता पंजीकरण अभियान के तहत जयपुर जिले में 3 लाख 37 हजार मतदाताओं के नाम जोड़े गए, जिनमें से 2.50 लाख से ज्यादा नए युवा मतदाता शामिल थे।

उल्लेखनीय है कि जनवरी और जुलाई में आयोजित होने वाले आईएसई के अन्तर्गत विद्यालयों का चयन इस प्रकार से किया गया है कि द्वितीय चरण में विद्यालय विशेष की पुनरावृत्ति न हो एवं आगामी 3-4 वर्षों में राज्य के समस्त विद्यालय आईएसई से लाभान्वित हो सके। इस कार्यक्रम का उद्देश्य राज्य की सभी स्कूलों में 9वीं से 12वीं तक के छात्र-छात्राओं को चुनाव और मतदान के प्रति जानकारी देकर उन्हें जागरूक करना है।

इस अवसर पर निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण पदाधिकारी (मालवीय नगर विधानसभा) श्रीमती नीतू राजेश्वर, प्रिंसिपल श्रीमती सुमन शेखावत समेत विभाग और जिला प्रशासन के अधिकारीगण उपस्थित रहे।