दुधी नदी पर 1400 करोड रूपये की बांध

भोपाल : (संतोष मिश्रा)————-मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने होशंगाबाद जिले के ग्राम बनखेड़ी में भाऊसाहब भुस्कुटे लोक न्यास परिसर गोविंद नगर में कृषि विज्ञान केन्द्र का उदघाटन करते हुए घोषणा की कि दुधी नदी पर 1400 करोड रूपये की लागत से बांध बनाया जाएगा। इससे एक लाख 50 हजार एकड़ क्षेत्र में सिंचाई की सुविधा मिलेगी, जिससे होशंगाबाद तथा नरसिंहपुर जिले के किसान लाभांवित होगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस बांध से पानी का अधिकतम उपयोग करने के लिये पाईप लाईन के माध्यम से सिंचाई की सुविधा दी जाएगी। इससे किसान स्प्रिंकलर तथा टपक सिंचाई पद्धति से खेतों को पानी दे सकेंगे।

श्री चौहान ने कहा कि भाऊसाहब भुस्कुटे संस्थान ने जैविक खेती के विकास तथा खेतों को उन्नत बनाने के लिये किसानों का सदैव मार्गदर्शन किया है। उन्होंने कहा कि कृषि विज्ञान केन्द्र भवन के लिये शीघ्र ही धन राशि मंजूर कर निर्माण कार्य प्रारंभ कराया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि खेतों में भारी मात्रा में खाद का उपयोग करने से खेतों की उर्वरा शक्ति नष्ट हो रही है, खेत बंजर हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस समस्या के निदान के लिये कृषि विज्ञान केन्द्र से किसानों को सही मार्गदर्शन मिलेगा। किसान फसल चक्र को अपनाएं तथा जैविक विधि से खेती करें। श्री चौहान ने कहा कि किसान की आय को दोगुना करने के लिये केवल फसल का उत्पादन बढ़ाना पर्याप्त नहीं हैं।

किसान पशु पालन और सब्जी उत्पादन कर अतिरिक्त आय अर्जित करने के वैकल्पिक साधन भी अपनाएं। उन्होंने कहा कि गौवंश को बढ़ावा देकर उसे खेती से जोड़ना होगा। गायें केवल दूध के लिये नहीं है। गौवंश धरती की उर्वरा शक्ति बढ़ाने के लिये अत्यंत आवश्यक है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भावांतर भुगतान योजना किसानों के लिये निश्चित ही वरदान साबित होगी। उन्होंने कहा कि जब अच्छा उत्पादन होता है तो बाजार में दाम घटते हैं। ऐसी स्थिति में किसान को किसी भी तरह की हानि से बचाने के लिये ही भावांतर भुगतान योजना क्रियान्वित की जा रही है।

श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार ने किसानों को उनके पसीने का उचित मूल्य देने के लिये इस योजना को लागू किया है। उन्होने कहा कि 31 अक्टूबर को भावांतर योजना के प्रथम मॉडल रेट घोषित कर दिये गये हैं। इसके आधार पर किसानों को भावांतर की राशि का भुगतान किया जाएगा।

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सह-सरकार्यवाहक श्री सुरेश सोनी ने कहा कि कृषि विज्ञान केन्द्र के माध्यम से इस क्षेत्र के 900 गांव के किसानों को उन्नत खेती, जैविक खेती, गोपालन तथा पर्यावरण संरक्षण के लिये प्रशिक्षण दिया जायेगा। इससे इस क्षेत्र की खेती में सुधार होगा और किसान समृद्ध होंगे। उन्होंने बताया कि कृषि विज्ञान केन्द्र तथा संस्थान के सहयोग से होशंगाबाद जिला मध्यप्रदेश ही नहीं अपितु देश के लिये खेती का मॉडल बनेगा।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सह-सरकार्यवाहक श्री सुरेश सोनी ने भुस्कुटे न्यास संस्थान की गौशाला में पहुंचकर गायों को गुड़ तथा हरा चारा खिलाया और भवन निर्माण कार्य का भूमि-पूजन किया।

समारोह में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरण शर्मा, महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस, कृषि विकास एवं किसान कल्याण मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन, सांसद श्री राव उदय प्रताप सिंह, विधायक श्री सरताज सिंह, श्री ठाकुरदास नागवंशी, श्री विजयपाल सिंह, श्री गोविंद सिंह, श्री जालमसिंह पटेल, मध्यप्रदेश खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे, कृषि प्रौद्योगिकी अनुसंधान केन्द्र जबलपुर के संचालक डॉ. अनुपम मिश्रा, नर्मदा हाइड्रोइलेक्ट्रिकल के संचालक श्री सत्यप्रकाश मोहन तथा बडी संख्या में किसान उपस्थित थे।