दिव्यांगों की हर संभव मदद करेगी – मुख्यमंत्री

जयपुर—– मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने कहा है कि दिव्यांगों के लिए हमारी सरकार ने पूर्व में जो योजनाएँ चलाई थीं, उन योजनाओं को पुनः क्रियान्वित कर जरूरतमंदों को लाभ पहुंचाया जाएगा।

श्री गहलोत ने शुक्रवार को सिरोही के पावापुरी तीर्थ जीव मैत्रीधाम में त्रिदिवसीय विशाल दिव्यांग शिविर में मुख्य अतिथि के रूप में यह विचार व्यक्त किए। उन्हाेंने कहा कि सरकार व सामाजिक संस्थाओं का यह दायित्व है कि इन दिव्यांगों की अच्छी सेवा का उनके मन में कोई हीन भावना उत्पन्न नहीं होने दें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव-गरीब और वंचित लोगों की सेवा से बड़ा कोई पुण्य का कार्य नहीं हो सकता है। राज्य सरकार यह चाहती है कि दिव्यांगों के कार्य एक छत के नीचे हो उसके लिए हमने दिव्यांगों का एक अलग निदेशालय बनाया है और इसे हम जिला स्तर पर भी सक्रिय करना चाहते हैं। इसमें सभी का सहयोग जरूरी है।

श्री गहलोत ने के.पी. संघवी ट्रस्ट पावापुरी के सामाजिक कार्यो की सराहना की। उन्होंने कहा कि अकाल एवं प्राकृतिक आपदा के समय ट्रस्ट के चेयरमैन एवं बाबूकाका के योगदान को मैं कभी भूल नहीं सकता। इनके परिवारजन आज भी जनकल्याणकारी कार्यों में बढ़-चढ़कर योगदान करते हैं, जो सुखद बात है।

मुख्यमंत्री ने शिविर में दिव्यांगाें के लिए बनाये जा रहे कृत्रिम हाथ-पैर की निर्माण विधि का अवलोकन किया। उन्होंने दिव्यांगों के बीच पहुंचकर उनके हाल-चाल पूछे तथा व्हीलचेयर और ट्राई साईकिल वितरित की। श्री गहलोत ने पावापुरी गौशाला में एक कल्प वृक्ष का पौधारोपण भी किया।

पावापुरी में शुक्रवार को के.पी. संघवी चेरीटेबल ट्रस्ट, पावापुरी भगवान महावीर सहायता समिति, जयपुर एवं भारत सेवा संस्थान, जोधपुर के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित शिविर में बड़ी संख्या में दिव्यांगों को लाभान्वित किया गया।

इस शिविर में 122 ट्राई साइकिल, 66 व्हीलचेयर, 31 फुट (पैर), 27 कैलीपर्स, 8 कृत्रिम हाथ, 46 बैशाखी, 32 स्टिक, 171 कान की मशीन वितरित की गईं तथा 210 दिव्यांगों की ऑडियोमीटरी जाँच की गई।

इस अवसर पर राजस्व मंत्री श्री हरीश चौधरी, सहकारिता मंत्री श्री उदयलाल आंजना, सिरोही जिला प्रभारी एवं उच्च शिक्षा राज्यमंत्री श्री भंवरसिंह भाटी, विधायक श्री संयम लोढा, भारत सेवा संस्थान के सचिव श्री जीएस बापना, भगवान महावीर विकलांग सहायता समिति के सचिव श्री डीआर मेहता सहित अनेक जनप्रतिनिधि और गणमान्यजन उपस्थित थे।