दिन दहाडे लड़की का अपहरण / मां शेरावाली….

फिरोजाबाद  (विकास पालिवाल ) –  नगर शिकोहाबाद के एटा बाईपास चौराहा स्थित गणेश नगर निवासी सुरेश बाबू की पुत्री बड़ा बाजार से साइकिल लेकर कचौड़ी लेने गई थी। लेकिन वह वापस घर नहीं आई। कुछ घंटे बाद उसका फोन आया जिसमें उसने अपने अपहरण की बात बताई। देर रात पिता द्वारा थाना में उसके अपहरण की रिपोर्ट अज्ञात के विरूद्ध दर्ज कराई गई है।1 poonam

सुरेश बाबू की पुत्री पूनम (15) मंगलवार को सुबह साढ़े 11 बजे बड़ा बाजार स्थित जैन कचौड़ी वाले के यहां से कचौड़ी लेने साइकिल से गई थी। उसके पास मोबाइल भी था। उसके जाने के 20 मिनट बाद उसकी मां ने मंडी से भिण्डी लाने के लिए फोन किया लेकिन आउट आंफ रेंज आने पर चिंता हुई। कुछ देर इंतजार किया बाद में उसकी बाजार में तलाश की लेकिन कोई सुराग नहीं लगा।

सुरेश बाबू उस समय दबरई पर थे। उन्हें एक बजे फोन कर घटना की जानकारी दी गई। दो बजे पूनम का फोन घर पर आया जिसमें उसने बताया कि उसे कुछ सुंघा दिया गया जिससे वह बेहोश हो गई,उसकी साइकिल व मोबाइल छीन लिया। वह आगरा से भगवान टाकीज के पास से पीसीओ से बोल रही है। इस पर उससे कहा गया कि वह वहीं रहे हम लोग आ रहे हैं।

पिता सुरेश बाबू सवा घंटे में आगरा पहुंच गये। पुल के नीचे जिस खेाखे से फोन किया गया था वहां पहुंचे लेकिन पुत्री नहीं मिली। खेाखे वाला भी ज्यादा जानकारी नहीं दे सका। पिता सुरेश बाबू ने बताया कि पूनम लड़के के वेश में रहती थी तथा लड़कों के कपड़े शर्ट व जींस पहनती थी। बाल भी लड़कों की तरह रखती थी।  वह गार्डेनिया स्कूल की कक्षा 10 की छात्रा थी।
——————————————————————————————————
सवकी झोली भरती मां शेरावाली….
फिरोजाबाद ।   सबकी झोली भरती मां शेरावाली, दर से न लौटा कोई खाली   इसी आस्था और विश्वास की ज्योति से मां का दरवार जगमग हो रहा है। चैत्र नवरात्र के चैथे दिन मां कूष्मांडा की घर-घर पूजा अर्चना की गई। भगवती मां का यह स्वारूप अन्य पूर्णा का है।

इसी की आराधना से दरिद्र दूर होता है। अष्टभूजि मांता के मुखमंडल पर सूर्य के सामान तेज है और मांता की मंद मुस्कान ब्रह्मांड को पैदास करने का कारण वनती है। नगर के छोटे-बड़े देवी मंदिरों पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ देखने को मिली। सुबह से देर रात तक मंदिरों में भक्तों का तांता लगा रहा। 4 maiya

गुरूवार को देवी मंदिरों में मैया के जयकारों और घ्ंाटो की ध्वनि गूंजती रही। सुबह और शांम दोनों बाजारों में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ सड़कों पर दिखाई दी। महिलाएं दिन-रात देवी की आराधना में लगी हुई है। देवी मंदिरों में फूल बंगला के साथ भव्य सजावट की गई है। शाम को दर्शन के बाद दान पुण्य भी कर रहे हंै। काली देवी मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ देखी जा रही है। इसके अलावा  पथवारी मंदिर पर अज्ञारी रखने और जल चढ़ाने के लिये महिलाओं की कतारें लगी रहीं। मंदिरों में रात के समय लांगुरिया व  देवी गीतों की गूंज रही।