गोरखपुर हादसा: मीडिया के ‘हीरो’ डॉ. कफील के काले कारनामे

गोरखपुर हादसा: मीडिया के ‘हीरो’ डॉ. कफील के कारनामे :-

** कॉलेज का ऑक्‍सीजन सिलेंडर चुराकर निजी क्‍लीनिक में इस्‍तेमाल।

** डॉ कफील बीआरडी मेडिकल कॉलेज के इन्सेफेलाइटिस डिपार्टमेंट के चीफ नोडल ऑफिसर हैं।1

** मेडिकल कॉलेज से ज्यादा प्राइवेट प्रैक्टिस के लिए विख्यात।

** जब बच्चों की मौत की खबर पर हंगामा मचा तो कफील अपने प्राइवेट अस्पताल में थे।

** जो सिलेंडरों अस्पताल भिजवाये वह मेडिकल कॉलेज का था ।

** सीएम योगी के साथ रहे डॉ. कफील लेकिन बकाए रकम के बारे में जानकारी नहीं दी।

** डॉ. कफील मेडिकल कॉलेज की खरीद कमेटी के मेंबर है।

** डॉक्टर कफील हर खरीद में कमीशन लेने के आदि है।

** एक तय हिस्सा प्रिंसिपल राजीव मिश्रा को मिलता है।

** ऑक्सीजन कंपनी पुष्पा सेल्स के साथ चल रहे विवाद में भी राजीव मिश्रा के साथ कफील का बड़ा हाथ था।

** मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मेडिकल कॉलेज में बंद कमरे में स्टाफ की क्लास ली।

** डॉ पूर्णिमा और बाल रोग विभाग की एचओडी से सवाल—- एक दिन में कितने सिलेंडर की जरूरत होती है ?

** डॉ पूर्णिमा का जबाव- 21 सिलेंडर।

** योगी ने डॉ. काफिल से पूछा कि जब 21 सिलेंडर की जरूरत होती है तो फिर तीन सिलेंडर की व्यवस्था करके मीडिया में हीरो बनने चले गए।

** अंदर मे डॉ.चिकित्सा में व्यस्त थे और तुम बाहर कैंपस में फोटो खिंचाने में व्यस्त –मुख्यमंत्री योगी