गीर नेशनल पार्क के शेर ः मध्य प्रदेश के पालपुर कूनो नेशनल पार्क में

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को तगड़ा झटका दिया है। मोदी सरकार के विरोध को दरकिनार करते हुए कोर्ट ने आज आदेश दिया कि गीर नेशनल पार्क के शेरों को मध्य प्रदेश भेजा जाएगा। कोर्ट ने शेरों को गुजरात से बाहर भेजने का विरोध करने के लिए मोदी पर टिप्पणी करते हुए कहा कि लुप्त होते जानवरों का संरक्षण, किसी की निजी प्रतिष्ठा से ज्यादा ज़रूरी है।

दरअसल गुजरात गीर के शेर अब मध्य प्रदेश के पालपुर कूनो नेशनल पार्क में भी दहाड़ेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को आदेश दिया कि छह महीने के अंदर गीर के चुनिंदा शेरों को मध्य प्रदेश भेजा जाए। एक एक्सपर्ट कमेटी तय करेगी कि कितने शेरों को वहां भेजा जाएगा। कोर्ट का ये फैसला मध्य प्रदेश में शेरों की घटती तादाद के मद्देनज़र किया गया है। उम्मीद की जा रही है कि मध्य प्रदेश के जंगलों में ये शेर अपनी आबादी बढ़ाएंगे।

गुजरात के मुख्य मंत्री नरेंद्र मोदी शेरों को गुजरात से बाहर भेजे जाने का विरोध कर रहे थे। उन्होंने गुजरात के शेरों को वहां कि अस्मिता से जोड़ दिया था। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि पर्यावरण का संरक्षण किसी की निजी प्रतिष्ठा से ऊपर होना चाहिए। पर्यावरण का संतुलन बनाए रखने के लिए जानवरों को हमेशा एक से दूसरी जगहों भेजा जाता है। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खुशी ज़ाहिर की है।