कांग्रेस समाज को जोड़ने व तीव्र विकास के लिए समर्पित: मुख्यमंत्री

शिमला————- मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह ने आज अन्तरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव के समापन समारोह की अध्यक्षता करते हुए ‘गैर मुआफीदार’ देवताओं (जिनकी भूमि मुज़ारियत अधिनियम में गई थी) तथा दशहरा उत्सव मंे शामिल नहीं हुए देवताओं केे प्रतिदिन के धार्मिक कार्यों को करने के लिए 1000 रुपये की राशि देने की घोषणा की। उन्होंने देवताओं के नजराने में 6 प्रतिशत की वृद्धि की घोषणा भी की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दशहरा उत्सव वैश्विक स्तर पर प्रदेश की समृद्ध संस्कृति का परिचायक है तथा प्रदेश के ‘लवी मेले’ के साथ-साथ हथकरघा व हस्तशिल्प के प्रचार के लिए एक उपयुक्त मंच है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने सदैव प्रदेश के लोगों के विकास तथा कल्याण के लिए कार्य किए हैं।

उन्होंने कहा कि भाजपा द्वारा आए दिन शैक्षणिक संस्थान खोलने के लिए उनकी आलोचना की जाती है, लेकिन वह कभी भी प्रदेश मंे गुणात्मक शिक्षा उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से पीछे नहीं हटे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा शैक्षणिक संस्थानों को बन्द करने के लिए जानी जाती है जबकि कांग्रेस प्रदेश के कोने-कोने में शिक्षा से बच्चों के भविष्य को उज्ज्वल बनाने में विश्वास रखती है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने स्वास्थ्य क्षेत्र को विशेष प्राथमिकता प्रदान की है। प्रदेश के तीन मेडिकल काॅलेजों में से चम्बा तथा नाहन स्थित काॅलेजों को कार्यशील कर दिया गया है। हमीरपुर में मेडिकल काॅलेज के निर्माण कार्य के लिए वन विभाग की स्वीकृति की प्रतीक्षा है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के बिलासपुर में प्रधानमंत्री द्वारा एम्स की आधारशिला रखी गई है, जिसके लिए राज्य सरकार ने पर्याप्त भूमि प्रदान की है। हालांकि भाजपा इस मामले में कुछ और ही पेश कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा इस प्रतिष्ठित स्वास्थ्य संस्थान के लिए बहुत पहले से पर्याप्त भूमि उपलब्ध करवा दी गई थी परन्तु इसके बावजूद शिलान्यास कार्य में काफी देरी की गई।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस सही मायनों में लोकतंत्र तथा धर्म निरपेक्षता को बनाए रखने के लिए जानी जाती है। उन्होंने कहा कि हम सभी धर्मों का सम्मान करते हैं और उन्हें समान नजरिए से देखते हैं जबकि भाजपा इसके ठीक विपरीत धर्म के नाम पर लोगों को बांटने में विश्वास रखती है।

उन्होंने कहा कि हम आपसी तालमेल, पे्रम व भाईचारे में विश्वास रखते हैं। भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है तथा कांग्रेस सभी धर्मों का सम्मान करती है व कांग्रेसी कट्टरपंथी सोच नहीं रखते।

उन्होंने प्रदेश में परम्पराओं, संस्कृति तथा रीति-रिवाजों को बनाए रखने पर भी बल दिया।

मुख्यमंत्री ने दशहरा समिति की स्मारिका का भी विमोचन किया तथा मेले केे दौरान आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कृत किया।

इससे पूर्व कुल्लू के उपायुक्त युनूस खान ने मुख्यमंत्री तथा अन्य गणमान्य व्यक्तियों का इस अवसर पर स्वागत किया। युनूस ने सप्ताहभर चले इस उत्सव के दौरान किए गए विभिन्न कार्यो के बारे विस्तृत जानकारी दी तथा गत माह शिमला में आयोजित दशहरा समिति की राज्य स्तरीय बैठक में देवताओं के नज़राने को 6 प्रतिशत बढ़ाने के लिए आभार व्यक्त किया। उन्होेंने उत्सव को एक सफल आयोजन के लिए सभी का धन्यवाद व्यक्त किया।

राज्य आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी संघ के अध्यक्ष डाॅ. दिनेश शर्मा ने मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए 4.51 लाख रुपये का चैक भेंट किया।

विधायक खूबराम तथा रवि ठाकुर, पूर्व विधायक सत्य प्रकाश ठाकुर, हिमाचल प्रदेश कांगे्रस समिति के महासचिव सुन्दर सिंह ठाकुर, मण्डी संसदीय विधानसभा क्षेत्र के अध्यक्ष आदित्य विक्रम सिंह, जिला परिषद कुल्लू के अध्यक्ष हरिचन्द शर्मा, जिला कांग्रेस समिति के अध्यक्ष बुद्धि सिंह सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।