एनटीपीसी के भू-विस्थापितों के पुनर्वास हेतु बैठक

बिलासपुर :(छत्तीसगढ)—————- कलेक्टर श्री पी. दयानंद की अध्यक्षता में एनटीपीसी सीपत परियोजना के भू-विस्थापितों के पुनर्वास हेतु किये जा रहे कार्यवाही में तेजी लाने और उसमें आ रही समस्याओं के निराकरण के लिए जिला प्रशासन, जनप्रतिनिधियों और प्रभावित किसानों की त्रिपक्षीय बैठक आयोजित की गई।

बैठक में विधानसभा उपाध्यक्ष और बेलतरा विधायक श्री बद्रीधर दीवान, मरवाही विधायक श्री अमित जोगी, बिल्हा विधायक श्री सियाराम कौशिक, मस्तूरी के विधायक श्री दिलीप लहरिया, एनटीपीसी के जीएम सामंथा आदि उपस्थित थे।

मंथन सभाकक्ष में आयोजित बैठक में कलेक्टर ने एनटीपीसी परियोजना से प्रभावित लोगों को एनटीपीसी द्वारा नियुक्ति देने के संबंध में विस्तृत जानकारी ली। एनटीपीसी के अधिकारी ने बताया कि प्रभावित भू-विस्थापितों को एनटीपीसी में नियोजित करने के लिए 692 पदों का प्रावधान किया गया था। जिसमें 380 पदों पर भर्ती प्रक्रिया की गई है। जिनमें आरक्षण के हिसाब से भर्ती प्रक्रिया की जानी है।

कलेक्टर ने निर्देशित किया कि जितने पदों पर नियुक्ति की गई है। उनकी सूची हफ्ते भीतर दें। उन्होंने कहा कि भू-विस्थापितों को नौकरी देने के लिए आरक्षण के मसले पर सामान्य प्रशासन विभाग को पत्र लिखकर अवगत कराया जायेगा और मार्गदर्शन लिया जायेगा।

तकनीकी विषयों को छोड़कर शेष पदों के लिए प्रावधान के अनुरूप एनटीपीसी कार्यवाही करे। उन्होंने एनटीपीसी के अधिकारियों को यह भी निर्देश दिये कि प्रभावित 8 गांवों में शिक्षा, स्वास्थ्य और पेयजल के लिए कार्ययोजना बनाएं। प्रभावित गांवों में पेयजल की समस्याओं का प्राथमिकता से निराकरण करें।

परियोजना के तहत् बनाए गए राखड़ डेम से प्रभावित किसानों को एनटीपीसी द्वारा मुआवजा प्रदान करने के लिए एसडीएम द्वारा टीम गठित की जायेगी, जो एक-एक गांव में जाकर देखेगी और एनटीपीसी को इस संबंध में अवगत कराया जायेगा।

श्री बद्रीधर दीवान ने कहा कि गत् बैठक में जो निर्णय लिया गया है, उसका पालन होना चाहिए। बैठक में सभी जनप्रतिनिधियों और प्रभावित किसानों ने अपनी-अपनी बात रखी।