अपराध और अपराधि‍यों पर निगरानी सिस्टम बनाना ही सर्वोच्च प्राथमिकता

दिल्ली———–देश के कई राज्यों में कानून-व्यवस्था की खराब हालत को देखते हुए खुद प्रधानमंत्री को नसीहत देनी पड़ी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को सभी राज्य सरकारों को हिदायत दी है कि वे अपराध और अपराध‍ियों पर निगरानी के लिए नेटवर्क और सिस्टम बनाने को सर्वोच्च प्राथमिकता दें ताकि कानून-व्यवस्था दुरुस्त हो सके.1

गौरतलब है कि हाल के महीनों में यूपी, झारखंड जैसे कई राज्यों में कानून एवं व्यवस्था की हालत काफी बिगड़ गई है, इसे देखते हुए पीएम की यह नसीहत काफी मायने रखती है. यूपी में योगी सरकार के एक्शन में आने के बावजूद अपराध कम नहीं हो रहे. प्रदेश में अक्सर लूटपाट, हत्या जैसी खबरें आती हैं.

मथुरा में सराफा कारोबारियों की हत्या से ऐसा लगा कि प्रदेश में अपराधियों में खौफ खत्म हो गया है. सहारनपुर जैसे जातीय संघर्षों से प्रदेश प्रशासन की और बदनामी हुई है. दूसरी तरफ, झारखंड में भीड़ द्वारा बच्चा चोरी के अफवाह में कई लोगों की हत्या कर देने की घटना ने राज्य सरकार को शर्मसार किया है. इसके अलावा देश के दूसरे राज्यों में भी अपराध के आंकड़े कम होने का नाम नहीं ले रहे.

क्राइम ऐंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क ऐंड सिस्टम्स (CCTNS) केंद्र सरकार की एक ऐसी परियोजना है जिससे ई-गवर्नेंस के द्वारा प्रभावी पुलिसिंग के लिए एक व्यापक और एकीकृत सिस्टम तैयार किया जाएगा.

पीएम मोदी ने प्रो-एक्टिव गवर्नेंस ऐंड टाइमली इम्प्लीमेंटेशन (PRAGATI) की मासिक बैठक में CCTNS की समीक्षा की. प्रगति के द्वारा प्रधानमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा केंद्र और राज्य सरकारों के शीर्ष अधिकारियों से सीधे बात करते हैं.

पीएमओ के अनुसार प्रधानमंत्री ने इस बैठक में राज्य सरकारों से आग्रह किया कि वे इस नेटवर्क को विकसित करने को शीर्ष प्राथमिकता दें ताकि इसका अधिक से अध‍िक फायदा उठाया जा सके और अपराधियों को उनके अंजाम तक पहुंचाया जा सके.

साल 2008 के मुंबई हमले के बाद CCTNS बनाने का विचार सामने आया था. इसके तहत 29 राज्यों और 7 केंद्र शासित प्रदेशों के सभी अपराध आंकड़ों को एक कोर एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर में डाला जाता है.