अखिलेश यादव निकाय चुनाव रण छोड—प्रवक्ता मनीष शुक्ला

(न्यूज 18)—————-भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने अखिलेश यादव द्वारा निकाय चुनावों की सभाएं नहीं करने के फैसले को मैदान छोड़कर भागने वाला बताया है.

लखनऊ में एक प्रेस रिलीज़ जारी कर उन्होंने कहा कि उनके पास बताने के लिए कुछ है ही नहीं जिसे बताने के लिए सभा करेंगे.

1

उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव समझ रहे हैं कि सभा करने पर उन्हें अपने कार्यकाल में किए गए कार्यों को बताना पड़ेगा. शायद इसलिए वह सभा से भाग रहे हैं.

शुक्ला ने कहा कि अखिलेश यादव के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी ने 2014 का लोकसभा और 2017 का विधानसभा चुनाव लड़ा जिसमें उनकों बुरी हार का सामना करना पड़ा. एक बार फिर नगर निकाय में पार्टी की निश्चित हार को देखकर अखिलेश यादव का आत्म विश्वास डगमगा गया है. इसलिए वे चुनाव मैदान से भाग कर रहे हैं.

प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में बीजेपी सरकार ने अपने आठ माह के कार्यकाल में जनता के लिए बहुत कुछ किया है. विधानसभा चुनाव में किए गए वादों के अनुसार किसानों का 1 लाख रूपये तक का कर्ज माफ किया, गन्ना किसानों का बकाया भुगतान किया, गेहूं की रिकार्ड खरीददारी की, बिजली बिल के बकाये का सरचार्ज माफ किया, बीपीएल धारकों को मुफ्त विद्युत कनेक्शन दिया जा रहा है, सड़कों को गढ्ढा मुक्त किया गया और प्रदेश में कानून का राज स्थापित किया गया है. इसलिये हमारे नेता चुनावी सभाएं कर रहे हैं. वे जनता को बता रहे हैं कि सपा-बसपा कांग्रेस ने सरकार में रहते हुए बीजेपी शासित नगर निगमों में काम नहीं करने दिया. विकास में व्यवधान उत्पन्न किया. बीजेपी के जीतने से शहरी क्षेत्रों का सम्पूर्ण विकास होगा.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेन्द्रनाथ पाण्डेय सहित संगठन और सरकार जनता के बीच अपनी नीति, नीयत, योजनाओं, जनकल्याणकारी कार्यों और स्मार्ट नगरीय व्यवस्था के रोडमैप के साथ पहुंच रहे. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नाथ पाण्डेय के नेतृत्व में बीजेपी जीत की हैट्रिक लगायेगी.